हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

गुरुवार, 30 दिसंबर 2010

ऐसा भागा ऐसा भागा

 शिशु गीत : डा. नागेश पांडेय ' संजय ' 

चित्र साभार :गूगल सर्च 

कड़ी ठण्ड में बिल्ली ने, 
थर्राता चूहा पकड़ा .
दस्तानें पहने पंजों में , 
कसकर उसको जकड़ा .

घर पहुँची  झट गैस जलाई , 
उस पर रखी कढाई. 
घी उड़ेल ठंडे चूहे को , 
डाला उसमे भाई .

गर्मी पाकर ठंडा चूहा , 
शेर बना  गुर्राया   . 
ऐसा  भागा ऐसा  भागा ,    
हाथ  नहीं  फिर आया . 

3 टिप्‍पणियां:

sheelu ने कहा…

Shisu geet padhkar khub hasi aai . Badhai Sheelu Sharma Bareilly

sheelu ने कहा…

Sir
Shisu geet bahut bahut acha he . Sheelu

virendra ने कहा…

sundar shushu geet . virendra kumar , fatehganj , bareilly