हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

सोमवार, 17 जनवरी 2011

गुडिया कहाँ चली ?

 शिशुगीत: डा. नागेश पांडेय ' संजय ' 
चित्र में : श्रुति 

अच्छी और भली गुडिया , 
बोलो कहाँ चली  गुडिया? 
 गुडिया आज चली स्कूल ,
मन में ख़ुशी रही है झूल , 
 गुडिया , तुम मन से पढना , 
जीवन में आगे बढ़ना . 

4 टिप्‍पणियां:

Akanksha~आकांक्षा ने कहा…

गुडिया पर सुन्दर कविता और अच्छा सन्देश भी...बधाई.

चैतन्य शर्मा ने कहा…

सुन्दर कविता...

कुमार बलवंत ने कहा…

अति उत्‍तम

कुमार बलवंत ने कहा…

अति उत्‍तम