हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

गुरुवार, 24 मार्च 2011

अम्मा मेरे मूंछ न क्यों





6 टिप्‍पणियां:

Abhishek ने कहा…

आपकी कविता पढ़कर अपना बचपन याद आ गया . कविता सुनकर बच्चे झूम उठे . . अभिषेक शर्मा , बरेली

बेनामी ने कहा…

badhaee s b jauhari 09450443299

shashi bhushan jauhari ने कहा…

aaj nageshji ki websight pahli bar dekhi . sukhad ashcharya hua. is websight ke madhyam se sari duniya ke hindi sahitya premi unki rachnao ka rasaswadan kar skenge. yuva unke kam se prerna lekar adhik shram karne ko utsahit honge. ishwar unko nikharte rahen . jeevan men wo sukhi rahen. shashi bhushan jauhari shahjahanpur # 09450443299

Kailash C Sharma ने कहा…

बच्चों के प्रश्नों का वास्तव में कोई अंत नहीं होता..बहुत सुन्दर रचना

virendra kumar ने कहा…

aap ki kavita munch kuy nahi man ko gudgudati hi

अनुष्का 'ईवा' ने कहा…

वाह ! कितनी मज़ेदार कविता है अंकल......... बहुत अच्छी लगी