हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

सोमवार, 22 नवंबर 2010

हुर्र... फुर्र..


 एक चिड़ैया ,     
बड़ी गवैया .
नाचा करती ,
ता ता थैया .

लेकिन जब मैं
 करता हुर्र .
वह झट से ,
उड़ जाती फुर्र .

कोई टिप्पणी नहीं: