हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

शनिवार, 27 नवंबर 2010

आओ न

हाथी राजा आओ न ,
मेरे संग कुछ खाओ न .
लेकिन तुम तो ज्यादा खाते , 
पल में सब कुछ चट कर जाते .
मेरी मानो थोड़ा खाओ, 
सुबह उठो , झट दौड़ लगाओ .
मेरे जैसे बन जाओगे ,
राजा बेटा कहलाओगे . 

कोई टिप्पणी नहीं: