हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

शनिवार, 11 दिसंबर 2010

सोओ और सोने दो

शिशुगीत : डा. नागेश पांडेय 'संजय'  
बंदर मामा बड़े प्यार से 
बोले -" भैया मोर . 
ता-ता थैया नाच दिखा दो , 
होता हूँ मैं बोर ." 
बोला मोर - "ठीक है लेकिन 
हो जाने दो भोर .
सोओ और मुझे सोने दो , 
अब मत करना शोर . " 


चित्रकार : डा. ममता रंजन 

5 टिप्‍पणियां:

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत मजेदार ....

लवकुश शर्मा ने कहा…

शिशु गीत मजेदार .

अभिषेक ने कहा…

बच्चों को प्यारा लगेगा ये शिशुगीत

shivam ने कहा…

very very goodsisugeet

मिंटू ने कहा…

बच्चों को अच्छी लगेगी ये रचना