हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

ब्रेक-फास्ट


शिशुगीत : डा. नागेश पांडेय ' संजय ' 

चालीस पूडी - बीस कचौड़ी , 
मिनटों में खा जाते हैं . 
इसीलिए तो मोटू भैया , 
पेटू जी कहलाते हैं . 
एक बार की बात इन्होंने , 
दही दस किलो खाया . 
बनी मजे की बात उसे जब , 
ब्रेक-फास्ट बतलाया. 

चित्र साभार ; गूगल सर्च 

4 टिप्‍पणियां:

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

मज़ेदार!

डा. बलवीर ने कहा…

वाकई ... मजेदार शिशुगीत

hindi poetry of shahjahanpur(U.P.), INDIA ने कहा…

अति सुन्दर रचना , छोटे बच्चे इसको याद भी आसानी से कर सकते हैं.

शुभम जैन ने कहा…

ha ha ha...

bahut mazedar kavita...

meri beti ise turant yaad kar legi...

dhanywaad aapka.