हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

मंगलवार, 14 जून 2011

सूरज को पाती



बालगीत : डा. नागेश पांडेय 'संजय'
सूरज जी, मैंने भेजी थी
तुमको लंबी पाती।


लिख भेजा था-गर्मी है यों
कट्टर धूप नहीं फैलाओ।
जैसे सर्दी में रहते थे,
वैसे ही फिर से बन जाओ।
आया नहीं जवाब, अरे क्या!
डाक वहाँ न जाती।

गर्मी से व्याकुल होकर सब,
दुःखी बहुत ज्यादा होते हैं।
हम तो जुगत भिड़ा लेते पर,
नर्वस पशु-पक्षी रोते हैं।
इठलाती नदिया की कलकल,
धीमी पड़ खो जाती।

पेड़ हुए हैं ठूंठ, धरा भी
सूखी साखी है बेचारी।
छोड़ो ढाना कहर, बताओ
क्यों गुस्सा-कैसी लाचारी?
दुःखकारी हरकतें तुम्हारी,
नहीं किसी को भाती।

जैसा भी हो, जो हो, देखो
तुम मुझको कारण बतलाओ।
तरह-तरह के मेरे मन में,
भरे हुए भ्रम, उन्हें हटाओ।
वरना समझूँगा तुम पाती,
खा गये समझ चपाती।

5 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अच्छी पुकार है इस बाल रचना में!

Kashvi Kaneri ने कहा…

लिख भेजा था-गर्मी है यों
कट्टर धूप नहीं फैलाओ।
जैसे सर्दी में रहते थे,
वैसे ही फिर से बन जाओ।
आया नहीं जवाब, अरे क्या!
डाक वहाँ न जाती।..बहुत सुन्दर और प्यारी कविता...

चैतन्य शर्मा ने कहा…

बहुत प्यारी कविता......

Prakash Manu प्रकाश मनु ने कहा…

tumhara utsah dekhker khushi hoti hai nagesh. per mein is samay aatm nirvasan mein hoon. jaise hi mera kam poora hoga, mein phir tum jaise naujvan sathiyon se aa milooga. khushi-khushi. bas, kuchh samay ki aur bat hai. sasneh, p manu

सुधाकल्प ने कहा…

हास्य का पुट देकर आपने कविता खूब लिखी है बच्चे तो क्या बड़े भी इसका आनन्द उठायेंगे।
सुधा भार्गव