हमारे सम्मान्य समर्थक... हम जिनके आभारी हैं .

गुरुवार, 2 दिसंबर 2010

अपलम चपलम

अपलम चपलम ता-थैया , 
भैया ने पाली गैया . 
गैया का रंग भूरा लाल , 
नरम-मुलायम उसकी खाल . 
उसके संग एक बछड़ा , 
दुद्धू पीता खड़ा - खड़ा . 
लोरी इसे सुनाओ माँ , 
जल्दी इसे सुलाओ माँ . 
दूध अगर पी जाएगा , 
हाथ नहीं कुछ आएगा . 

कोई टिप्पणी नहीं: